केदारनाथ में प्लास्टिक हटाने की मुहिम शुरू

रुद्रप्रयाग: केदारनाथ धाम में लगातार बढ़ते प्लास्टिक को हटाने की मुहिम शुरू हो गई है। रामानंद आश्रम और ललित महाराज की संरक्षण में प्लास्टिक हटाने की मुहिम शुरू की गई है।पूरे केदारपुरी को 4 जोन में बंटा गया है जिसमे पुराना घोड़ा पड़ाव, भैरव मंदिर, केदारपुरी नगरी और बेस कैम्प प्रमुख है। इस मुहिम में अब धीरे- धीरे अन्य संस्थाओं का भी सहयोग मिल रहा है। प्लास्टिक हटाने की मुहिम को सबसे पहले रामानंद आश्रम और पुराने घोड़ा पड़ाव से शुरू किया गया। दूसरे दिन केदारनाथ मंदिर से साढ़े 3 किमी आगे चोराबाड़ी ताल से करीब 20 किमी प्लास्टिक हटाया गया। टीम में संदीप गुसाईं, प्रकाश सिमल्टी, शशांक कांडपाल, रोहित सिंह, स्वामी पुरुषार्थ देव और साधु संत आदि थे।

चारधाम दर्शन के लिए बुकिंग फुल:

  • 20 मई से बाद के लिए सिर्फ बद्रीनाथ का पंजीकरण
  • 05 जून तक के लिए केदारनाथ की हेलीसेवा भी फुल

यह भी पढ़े- 20 श्रद्धालुओं की मौत के बाद उत्तराखंड चार धाम यात्रा के लिए नई गाइडलाइन जारी

चारधाम यात्रा के लिए देश विदेश से उमड़ रही यात्रियों की भीड़ के कारण पंजीकरण के सारे स्लॉट फुल हो चुके है। केदारनाथ ,यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के लिए जून पहले हफ्ते तक के पंजीकरण बुक हो चुके है। बद्रीनाथ धाम के लिए भी 20 मई से पहले का रजिस्ट्रेशन नही मिल रहा है। पंजीकरण नही हो पाने के कारण देश के अलग- अलग राज्यों से हरिद्वार और ऋषिकेश पहुंचे यात्री काफ़ी परेशान है। चारधाम यात्रा की प्रक्रिया में अव्यवस्था के विरोध में रविवार को ऋषिकेश में गुस्साए यात्रियों ने उत्तराखंड सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शन किया।

हेली सेवा भी फुल:

गढ़वाल मंडल विकास निगम (GMVM) की प्रबंध निदेशक स्वाति भदोरिय ने बताया की केदारनाथ यात्रा के लिए हेलीसेवा के सभी टिकट पांच जून तक के लिए बुक हो चुके है। ऐसे में यात्रियों के लिए देहरादून से गोचर और चिन्यालिसौड तक उड़ान सेवा के तहत संचालित हेलीसेवा का लाभ देने का विकल्प है।केदारनाथ धाम के लिए तीसरे चरण की बुकिंग 21 मई से शुरू होगी।

बिना पंजीकरण के ऋषिकेश से आगे प्रवेश नहीं:

पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने कहा कि बिना पंजीकरण के श्रद्धालुओं को अब ऋषिकेश से आगे नहीं बढ़ने दिया जाएगा। उन्होंने सभी यात्रियों को पंजीकरण के बाद ही यात्रा शुरू करने की सलाह दी।

Leave a comment